Pages

Thursday, July 21, 2011

जब पहली बार मिले थे हम

थर -थर काँपती 
लिपियों के बीच  
मिले थे हम, 
तुमने मुझे 
मेरे नाम से पुकारा था 
बिल्कुल धीमे 
लगभग फुसफुसाकर 
और उन्ही दुबली लिपियों से 
रचा था हमने महाकाव्य ,
भाषा के मौन घर में 
छुप गए थे हम 
डरे हुये परिंदों की तरह 
चहचहाना भूलकर 
बस देखना ही शेष था,
अगल बगल बैठे थे 
पर दूर कहीं खोये थे 
एक दूसरे के सपनों में ,
सपनों के भीतर 
आत्मा की आँच थी                        
ताप रहे थे जिसे 
दोनों हथेलियाँ फैलाए 
समय की बीहड़ उड़ानों में ,
मेरी त्वचा पर 
खुदा था तुम्हारा नाम 
जिसे पहचान गए थे तुम 
उस एक ही अक्षर में...  
जन्मों के गीत रचे थे 
एकांत के  रंगों में 
जिसे हम गा रहे थे 
चुप्पियों के बीच, 
सरगम की यात्रा 
धुनों की बारिश में 
भीग गए थे हम 
बाँसुरी के स्वरों में, 
ठीक उसी वक्त 
क्रोंच-बध हुआ था 
लहूलुहान हुई थी धरती 
और टूटती साँसों के बीच 
जन्मे थे बुद्ध ...। 

49 comments:

  1. बाँसुरी के स्वरों में,
    ठीक उसी वक्त
    क्रोंच-बध हुआ था
    लहूलुहान हुई थी धरती
    और टूटती साँसों के बीच
    जन्मे थे बुद्ध ...।

    बेहतरीन कविता।

    सादर

    ReplyDelete
  2. Didi Ji Sadar Pranam,
    dil ko chu gayi aapki behtreen rachna.......

    ReplyDelete
  3. आज 19- 07- 2011 को आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है .....


    ...आज के कुछ खास चिट्ठे ...आपकी नज़र .तेताला पर
    ____________________________________

    ReplyDelete
  4. भावमय करते शब्‍दों के साथ सुन्‍दर प्रस्‍तुति ... ।

    ReplyDelete
  5. दिनांक गलत होने के कारण फिर से सूचित कर रही हूँ ..


    आज 22- 07- 2011 को आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है .....


    ...आज के कुछ खास चिट्ठे ...आपकी नज़र .तेताला पर
    ____________________________________

    ReplyDelete
  6. अत्यंत भावपूर्ण रचना .

    ReplyDelete
  7. खूबसूरत भावों को समेटे एक खूबसूरत रचना |

    ReplyDelete
  8. आपकी कवि‍ता अनहद नाद की तरह है।

    ReplyDelete
  9. बहुत ही खुबसूरत अभिवयक्ति....

    ReplyDelete
  10. भाषा के मौन घर में ......बेहद खूबसूरत

    ReplyDelete
  11. कमाल का शिल्प है इस रचना का!

    ReplyDelete
  12. bahut hi khoosoorat rachna.........

    ReplyDelete
  13. एकांत के रंगों में
    जिसे हम गा रहे थे
    चुप्पियों के बीच,
    सरगम की यात्रा
    धुनों की बारिश में
    भीग गए थे हम

    भावों की गहनता लिए बहुत अच्छी रचना ...

    ReplyDelete
  14. उस एक ही अक्षर में...
    जन्मों के गीत रचे थे

    बहुत सुन्दर रचना, खूबसूरत अभिव्यक्ति , बधाई

    ReplyDelete
  15. namaskaar !
    sunder abhivyakti , sunder prastuti . badhai
    sadhuwad
    saadar

    ReplyDelete
  16. लिपियों के बीच
    मिले थे हम,
    तुमने मुझे
    मेरे नाम से पुकारा था
    बिल्कुल धीमे
    लगभग फुसफुसाकर
    खूबसूरत अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  17. "भाषा के मौन घर में
    छुप गए थे हम
    डरे हुये परिंदों की तरह
    चहचहाना भूलकर
    बस देखना ही शेष था," एक और खूबसूरत कविता। कितनी महीन और मार्मिक बुनावट है अंतरंग मानवीय भावों की। बधाई सुशीलाजी।

    ReplyDelete
  18. व्‍याकरण की शब्‍दावली में सघन प्रेम की यह शानदार कविता आपकी लेखनी ही से निकल सकती थी। बधाई और शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  19. पर वो भी तो प्रेम की मौन भाषा से ही उपजे थे ... प्रेम जिसकी कोई भाषा नहीं होती ... जो सृजन करती है प्रेम का ...
    अध्बुध प्रस्तुति है ...

    ReplyDelete
  20. सुन्दर कविता...बहुत पसंद आई..

    ReplyDelete
  21. .
    जन्में थे बुद्ध ...............
    कुछ समय को थम गया था क्रौंच -वध ,
    किन्तु गैरिक रंग के नेपथ्य में
    वह वधिक जीता रहा था ,
    हिमाच्छादन के तले
    दरारों के बीच बहती ही रही
    श्याम-अंतर-धार ....................!

    ReplyDelete
  22. ठीक उसी वक्त
    क्रोंच-बध हुआ था
    लहूलुहान हुई थी धरती
    और टूटती साँसों के बीच
    जन्मे थे बुद्ध ...

    बेहद खूबसूरत...

    ReplyDelete
  23. मेरी त्वचा पर
    खुदा था तुम्हारा नाम
    जिसे पहचान गए थे तुम

    यह तो मन को वैसे ही छू गया जैसे जंगली हवा उतर जाती है मन की भीतरी तहों में
    कहीं . बधाई

    ReplyDelete
  24. क्या कहूँ?मन आनंदित हुआ। रूहानी अल्फाजों से भरी
    सुन्दर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  25. बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  26. उस एक ही अक्षर में...
    जन्मों के गीत रचे थे ..

    वाह! बेहद कोमल से भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  27. बहुत बढ़िया कविता... बधाई...

    ReplyDelete
  28. सचमुच आपने बहुत अच्छी कविता लिखी है दीदी कविता लिखने मे आपका कोई सानी नही है

    ReplyDelete
  29. थर -थर काँपती
    लिपियों के बीच
    मिले थे हम,
    तुमने मुझे
    मेरे नाम से पुकारा था
    बिल्कुल धीमे
    लगभग फुसफुसाकर
    और उन्ही दुबली लिपियों से
    रचा था हमने महाकाव्य ,

    _______________________


    बेहतरीन अनुभूति

    ReplyDelete
  30. bhasha ke moun ghar me

    mnn krne ko prerit krti ek hi pnkti bhut hai
    puri kvita ke khne hi kya .

    ReplyDelete
  31. भीग गए थे हम बाँसुरी के स्वरों में !

    ReplyDelete
  32. आप सभी का दिल से आभार !

    ReplyDelete
  33. jab tak bachogi
    aise hi rachogi

    Jis din 'mar' jaaogi
    apne ghar laut aaogi...
    naha-dhokar...
    aur us se pahle jaane kahaan-kahaan
    kya-kya toh bo-bo kar...

    ReplyDelete
  34. आज आपके ब्लॉग पर आपकी रचनाओं का आस्वादन किया. बहुत गहरे मन को छूती हुई रचनाएँ. प्रेम का यह धीमापन ही भिगोता है. सुन्दर रचनाओं के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  35. भावनाओ के ज्वार को बहुत खूबसूरती से शब्दों के दायरे में बांध कर कर अच्छी कविता लिखी है.
    यदि मीडिया और ब्लॉग जगत में अन्ना हजारे के समाचारों की एकरसता से ऊब गए हों तो कृपया मन को झकझोरने वाले मौलिक, विचारोत्तेजक आलेख हेतु पढ़ें
    अन्ना हजारे के बहाने ...... आत्म मंथन http://sachin-why-bharat-ratna.blogspot.com/2011/08/blog-post_24.html

    ReplyDelete
  36. aapki kavitao ne dil ko chhu liya. aap badhai ki patr hai.

    m shiva

    www.kaalamita.com

    ReplyDelete
  37. bahut hi sundar kavita hai sushila ji.........

    ReplyDelete
  38. दीदी बहुत बढ़िया लगी आपकी कविता .बस इसी तरह साहित्य जगत को अपनी रौशनी से चमत्कृत करते रहें .. धन्यवाद

    ReplyDelete
  39. प्रेम अब बीता हुआ भाव बन चुका है/ आप की यह कविता बताती है यह सच नही है/मिथक का अच्छा प्रयोग है/ ऐसी कविताये ह्मे यकीन देती है

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails