Pages

Sunday, June 20, 2010

थिरकती हूँ मै अहर्निश

एक धुन है 
जो लिपिहीन होकर 
गूँजती रहती है निरंतर 
अपनी व्याप्ति मे विलक्षण
उसकी लय पर 
थिरकती हूँ मै अहर्निश ,
एक धुन है 
जो छंदहीन होकर 
आरोहों अवरोहों से परे
अपनी त्वरा मे तत्पर 
विहगगान सी 
टेरती रहती है भीतर ,
एक धुन है 
जो नामहीन होकर 
सुरों से निर्लिप्त 
सरगमों मे डूबी 
स्वरों के व्याकरण से दूर 
रचती रहती है मधुर स्वर ,
एक धुन है 
जो डोरहीन होकर 
बंधी रहती है पतंग सी 
गगन को नापती 
करती अपनी ही प्रदक्षिणा 
फूँकती रहती है अपने हिस्से की बाँसुरी ।    

43 comments:

  1. 'एक धुन है
    जो नामहीन होकर
    सुरों से निर्लिप्त
    सरगमों मे डूबी
    स्वरों के व्याकरण से दूर
    रचती रहती है मधुर स्वर ,''
    ----

    -बेहद खूबसूरत रचना ..बेहद खूबसूरत भाव!
    'बंधी रहती है पतंग सी
    गगन को नापती
    करती अपनी ही प्रदक्षिणा'
    ---अद्भुत!!प्रशंसा के लिए शब्द तलाश रही हूँ...

    ReplyDelete
  2. एक धुन है
    जो छंदहीन होकर
    आरोहों अवरोहों से परे
    अपनी त्वरा मे तत्पर
    विहगगान सी
    टेरती रहती है भीतर ,

    jabardast hai ye dhun...behad khubsurat.

    ReplyDelete
  3. एक धुन है
    जो छंदहीन होकर
    आरोहों अवरोहों से परे
    अपनी त्वरा मे तत्पर
    विहगगान सी
    टेरती रहती है भीतर

    बहुत खूबसूरत रचना....मन थिरक ही तो गया पढ़ कर

    ReplyDelete
  4. क्या बात है पुरी साहब!
    इतनी उदासी क्यों है इस कविता में?
    लेकिन कविता बड़ी अच्छी है।
    ज़रा कविता कोश को भी कविताएँ भिजवाइए।
    पता है
    kavitakosh@gmail.com

    ReplyDelete
  5. करती अपनी ही प्रदक्षिणा
    फूँकती रहती है अपने हिस्से की बाँसुरी । !!!
    अव्यक्त को व्यक्त करती ,सूने में संगीत भरती ,यह कविता वास्तव में खुबसूरत बन पड़ी है ! अनिल जी की बात कविता की कीर्ति पताका है ! बधाई !

    ReplyDelete
  6. "funkti rahi apne hisse ki bansuree.......:)"

    bahut khubsurat abhivyakti......mere pass sabd nahi hai kahne ko.......:)

    ReplyDelete
  7. sushila di
    'बंधी रहती है पतंग सी
    गगन को नापती
    करती अपनी ही प्रदक्षिणा'
    itanisashkt avambehad hi prabhavshali rachana.
    nihshabd ho gai hun main.
    poonam

    ReplyDelete
  8. जीवन एक प्रवाह की तरह है और प्रवाह में रहना ही जीवन की सार्थकता है... और बाँसुरी की आवाज़ गूँजती रहे तो कहना ही क्या.......

    ReplyDelete
  9. धारा प्रवाह रचना ... अध्बुध शब्दों से रची रचना ... लिपि हीन छन्द हीन धुन .... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  10. मंगलवार 22- 06- 2010 को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है


    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  11. सुंदर कविता... सुंदर चित्र ...अनहद आनंद का सृजन कर रहे हैं.

    ReplyDelete
  12. ghazab ki dhun ... :) par laga ki kavita aadhe me hi khatm ho gayi ...

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  14. इस अद्भुत रचना की प्रशंशा शब्दों में करना असंभव है...इतने सुन्दर भाव और शब्दों का समावेश किया है इसमें की क्या कहूँ...वाह...दिल गदगद हो गया पढ़ कर...
    नीरज

    ReplyDelete
  15. हर बार की ही तरह एक और सुन्दर कविता !!!!!!!!

    ReplyDelete
  16. सुशीला जी , बहुत दिनों बाद आपको पढ़ा । अवाक सा रह गया , आपके शब्दों के प्रयोग पर । इतनी खूबसूरत तस्वीर के साथ ये रचना बड़ी मनमोहक लगी ।

    ReplyDelete
  17. पूरी कविता का निचोड़ कुछ पंक्तिया है.....विशेष कर ये वाली ...
    गगन को नापती
    करती अपनी ही प्रदक्षिणा
    फूँकती रहती है अपने हिस्से की बाँसुरी ।

    हाँ चित्र जैसे कविता का एक हिस्सा है

    ReplyDelete
  18. In sab diggajon ke comments ke baad mai kahun to kya kahun? Koyi alag alfaaz nahi bache!

    ReplyDelete
  19. आरोहों अवरोहों से परे
    अपनी त्वरा मे तत्पर ............बेहद सुंदर रचना ....बधाई...मन को हौले से छू गई ये कविता.....

    ReplyDelete
  20. उफ़ क्या कहूँ इस रचना के कला और भावपक्ष की...
    मंत्रमुग्ध कर लिया बस.....

    बहुत बहुत बहुत ही सुन्दर....

    ReplyDelete
  21. सुशीला जी,
    एक प्रशंसा है, जो गूंज रही है, निरंतर..., छंदहीन-शब्दहीन, अहर्निश...। आप टेरती रहे धुन, मैं नाच रही हूं निरंतर.
    गीताश्री

    ReplyDelete
  22. गजब की धुन है भाई! वाह! वाह!

    ReplyDelete
  23. अपने हिस्से की बांसुरी खूब फूंकी है आपने...
    बेहतर...

    ReplyDelete
  24. जो नामहीन होकर
    सुरों से निर्लिप्त
    सरगमों मे डूबी
    स्वरों के व्याकरण से दूर
    Apne mijaaz ke hisab se ye panktiyaN zyada jamiN mujhe.

    ReplyDelete
  25. ye dhun gunzti rahegi jab tak tab tak ye zindgi hamari khushiyo ko aur hamare jindgi k prati lagaav ko posti rahegi...is dhun ka gunzta rahna jaruri he.

    ReplyDelete
  26. धारा प्रवाह रचना ...

    ReplyDelete
  27. chitra aur kavita dono hi adbhut hai!

    ReplyDelete
  28. shabdo se jo sangeet paida kee hai is kavtia wah vilakshan hai!

    ReplyDelete
  29. कविता के साथ चित्र न हो तो रचनाकार और पाठक के अंतस् की ज्योति एकाकार हो जाए.... !! ...........अत्यन्त संकोच के साथ यह बात कही है सुशीलाजी..!

    ReplyDelete
  30. सुन्दर भाव शब्द और चित्र ।

    ReplyDelete
  31. An excellent harmony of thoughts with expressive illustration of beauty.

    ReplyDelete
  32. सुशीला जी
    आपकी कविता बेहद पसंद आई. अपनी निजी अनुभूतियों को प्रभावशाली ढंग से प्रस्तुत किया है. वैसे पंतजी ने भी लिखा है.
    वियोगी होगा पहला कवि
    आह से उपजा होगा गान
    निकल कर नयनों से चुपचाप
    वही कविता होगी anjaan

    www-vichar-bigual.blogspot.com

    ReplyDelete
  33. adrishy ko mehsous krna our use shbdo ka jama phnanna. bhut khoob !bhut khoob !

    ReplyDelete
  34. आपकी कविता(एँ) बहुत अच्छी लगीं। क्यों नहीं आया आज तक, इसकी सफ़ाई देने की ज़रूरत आपको नहीं-अपने आप से है। मुझे पता है, मगर अपनी बेवक़ूफ़ी की क्या चर्चा करूँ।
    आपकी "एक ही ईश्वर और एक ही नागरिक" वाली रचना बहुत बढ़िया है।
    मार्मिकता और भावुकता के मोतियों की तो वैसे भी कमी नहीं है चहुँओर, मगर विचार का धागा ही उन्हें प्रस्तुति योग्य बना पाता है। यही साहित्य-सृजन है। आपको धागे के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  35. .एक धुन है
    जो डोरहीन होकर
    बंधी रहती है पतंग सी
    गगन को नापती
    करती अपनी ही प्रदक्षिणा
    फूँकती रहती है अपने हिस्से की बाँसुरी । ...पूर्ण समर्पण के बाद मिले विरह की अदभुत कथा कहती है तुम्हारी कविता .मिलन के बाद फिर मिलन की चाह वियोगिनी बना रही है तुम्हें .सुन्दर कविता के लिए दिल से बधाई

    ReplyDelete
  36. सुन्दर कविता, उदास लेकिन ऊर्जा से भरी हुई. बधाई.

    ReplyDelete
  37. जब पिछली कविता पढ़ी थी, तब प्रतिक्रिया देना चाहता था लेकिन लगाता सफ़र में था। बहुत कम ऐसे रचनाकार हैं जो अपने वैयक्तिक 'आत्म' (self) और अपने सृजनात्मक 'आत्म'(Creative self) के बीच के द्वैध और पृथकता को इस कर एक कर पाते हों। (याद करें इलियट को, जो 'रचयिता मानस' और 'भोक्ता-मानस' के बीच 'ज़रूरी अंतराल' की बात करता था)
    लेकिन आपको लगेगा मैं कोई गंभीर-सी अकादेमिक बात करने लगा। ..तो कुल मिलाकर यह कि बधाई, इतनी सुंदर, सम्मोहक और संवेदनात्मक कविताओं के लिए। भाषा को इस तरह बरत पाने के लिए सिर्फ़ शिल्प कौशल ही नहीं, वह काव्य-हृदय भी चाहिए!
    जो यहां निस्संदेह है ! अनंत शुभकामनाएं...!

    ReplyDelete
  38. आप सभी का हार्दिक आभार....

    ReplyDelete
  39. Save upto 70% on all major brands of contact lenses Online In INDIA including B&L/J&J/Freshlook/Acuvue & many more. www.SoftTouchLenses.com

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails