Pages

Thursday, April 15, 2010

तुम्हारे नाम का जल



तुम्हारा नाम
अपने अर्थ की आभा में
चमकता है
जैसे अपने नमक के साथ
धीर धरे सागर हो ,
धैर्य की अटूट परम्परा में
तुम्हारे नाम का वजूद
समय के ठोस अँधेरे को भेदकर
रौशनी की तरह फैलता है
और मै कतरा कतरा नहा उठती हूँ ,
तुम्हारे नाम की बारिश में
बिना छतरी के
मै भीगती हूँ ;नंगे पांव ,
साइबेरियन पंछियों की तरह
तुम्हारे नाम का जल
क्यूँ बुलाता है मुझे बार बार
मै चली आती हूँ मीलों मील
बिना रुके बिना थके
तुम्हारे नाम का अर्थ
धारण किये
तुझमे विलीन होने को आतुर
मै सदानीरा .


girl in rain

57 comments:

  1. और मै कतरा कतरा नहा उठती हूँ ,
    तुम्हारे नाम की बारिश में
    बिना छतरी के
    मै भीगती हूँ ;नंगे पांव ,
    साइबेरियन पंछियों की तरह


    -बहुत छूते हुए अहसास!! सुन्दर अभिव्यक्ति!!

    ReplyDelete
  2. सांद्र और सुंदर कविता.तल्लीन करनेवाली.

    ReplyDelete
  3. तुम्हारे नाम की बारिश में
    बिना छतरी के
    मै भीगती हूँ ;नंगे पांव ,
    भीगी रचना, एहसास की कोमलता और सुन्दर भाव की यह रचना
    बेहतरीन

    ReplyDelete
  4. तुम्हारे नाम का जल
    क्यूँ बुलाता है मुझे बार बार
    मै चली आती हूँ मीलों मील
    बिना रुके बिना थके
    तुम्हारे नाम का अर्थ
    धारण किये


    बहुत सुन्दर भाव सुन्दर रचना...भीगी भीगी सी

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छा लिखतीं हैं आप . मृदु अहसास के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  6. एहसास की कोमलता और सुन्दर भाव की यह रचना

    ReplyDelete
  7. bahut sundar ahsas dilaya aap ne

    shekhar kumawat

    http://kavyawani.blogspot.com/

    ReplyDelete
  8. धैर्य की अटूट परम्परा में
    तुम्हारे नाम का वजूद
    समय के ठोस अँधेरे को भेदकर
    रौशनी की तरह फैलता है
    और मै कतरा कतरा नहा उठती हूँ ,
    http://dilkikalam-dileep.blogspot.com/

    ReplyDelete
  9. बिना छतरी के
    मै भीगती हूँ ;नंगे पांव ,
    साइबेरियन पंछियों की तरह!!!
    क्या बात है.... तुम्हारे नाम का जल तो है ,
    जहाँ साइबेरियन पक्षी की तरह मन उड़ जाता है !
    गर्मी में उत्सुक तरलता का एहसास बधाई !

    ReplyDelete
  10. कमाल का विस्तार है काव्य में!

    ReplyDelete
  11. आपके ब्लॉग पर मैं आज पहली बार आया... और मुझे आपकी कवित्यें बहुत पसंद आई... मैंने तुम्हारा चुम्बन भी पढ़ा और यह भी ... मैं कविता का कोई जानकार नहीं पर अचानक अपने गति से उठने वाली पंग्तियाँ मिली... शुक्रिया.

    ReplyDelete
  12. bahut achhe...
    humein itni achhi kavita dene ke liye dhanyawaad...aur aapko badhai.....
    mere blog par is baar..
    नयी दुनिया
    jaroor aayein....

    ReplyDelete
  13. अनूठे बिम्बों से सजी कविता...तुम्हारे नाम का जल कैसे खींचता है मुझे अपनी और

    ReplyDelete
  14. तुम्हारे नाम का जल
    क्यूँ बुलाता है मुझे बार बार
    मै चली आती हूँ मीलों मील
    बिना रुके बिना थके
    तुम्हारे नाम का अर्थ
    धारण किये
    तुझमे विलीन होने को आतुर
    मै सदानीरा .
    Bahut sundar bhavon kee khoobasurat prastuti.
    Poonam

    ReplyDelete
  15. kya jbrdst kshish hai
    yu dubli ptli si chup chup si aap, mashaallah ye takt kha se aai hai btlana jra

    ReplyDelete
  16. prem mein kuch bhi ho sakta hai. yadi havayen tej hoteen aur barish mein bachav ke liye rakhi chhatree bhi uda le jaatee to bheegne aur nahane ka maja ehsasas ko aur badha deta.prem mein jab nahana ho to katara katara kyon? rom - rom sirka ho jana chahiye. achha likha hai.
    krishnabihari

    ReplyDelete
  17. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  18. तुम्हारी कविता अति सुंदर है ...सुंदर भावों से भरी सागर की तरह ही !!......प्रेम में भीगने का भाव व्यापकता में प्रभावी है . मैं कृष्ण की बात से पूरा इत्तेफाक रखती हूँ कि भीगना सिरका सा हों तो प्रेम दुगुने असर से अभिव्यक्त होंगा ... इस सुन्दर कविता के लिए तुम्हें बधाई !!

    ReplyDelete
  19. कविता के शब्दों से भावों की बरसात हुई ,मन भीग गया.
    अति सुंदर !
    चित्र बहुत सुन्दर लगाया है.[.नीचे--जिस में बरसात हो रही है.]

    ReplyDelete
  20. अद्भुत है यह कविता। आप तो मुझे अपनी पुरानी कविताओं की ओर वापस ले जा रही हैं, वो कभी ना भूलने वाला संसार है, जिसमें दो दिल डूबकर प्‍यार करते हैं। ऐसी भावाभिव्‍यक्ति कविता को बहुआयामी बनाती है। बधाई।

    ReplyDelete
  21. क्यूँ बुलाता है मुझे बार बार
    मै चली आती हूँ मीलों मील
    बिना रुके बिना थके
    तुम्हारे नाम का अर्थ
    धारण किये ..wah!

    ReplyDelete
  22. Hi..

    Aaj pahli baar aapke blog par aaya..

    Wah.. Kavita ka bahav adwiteeya hai..
    Aur ye Kavita hi hai.. Unglion ki chhatpatahat bilkul bhi nahi..

    Aise hi likhti rahen aur aapne pathakon ko abhibhoot karti rahen..

    DEEPAK..

    ReplyDelete
  23. तुम्हारे नाम की बारिश में
    बिना छतरी के
    मै भीगती हूँ ;नंगे पांव ,
    साइबेरियन पंछियों की तरह
    तुम्हारे नाम का जल
    क्यूँ बुलाता है मुझे बार बार
    मै चली आती हूँ मीलों मील
    बिना रुके बिना थके!
    उफ़, अति सुन्दर , कमाल का लिखा है ! तारीफ़ के शब्द नहीं है, सच!

    ReplyDelete
  24. वाह !! अति सुन्दर !

    ReplyDelete
  25. वाह !! अति सुन्दर ! कमाल के शब्द ! कमाल की अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  26. तुम्हारे नाम की बारिश में
    बिना छतरी के
    मै भीगती हूँ ;नंगे पांव ...

    साइबेरिया के पंछी की तरह ... चातक की तरह .. भंवरे की तरह ... मन भी तो चाहत के हाथों मजबूर हो जाता है ... किसी के नाम की बारिश .. या प्रेम की नमी .. भीगते रहने की चाह ... बहुत ही कमाल की कल्पना है ...

    ReplyDelete
  27. समय के ठोस अँधेरे को भेदकर
    रौशनी की तरह फैलता है
    और मै कतरा कतरा नहा उठती हूँ ,
    तुम्हारे नाम की बारिश में
    बिना छतरी के

    बहुत खूब .....!!

    ReplyDelete
  28. bahut sundar panktiyaan....ekdam dil ko chhutee huee...aapkee har kavita dimaaag par chhap jatee hai...badhai

    ReplyDelete
  29. अच्छी कविता और मन को छू जाने वाले बिम्ब

    ReplyDelete
  30. बेहद सुन्दर कविता..ख़ूबसूरत अहसास लिए.

    ReplyDelete
  31. मै भीगती हूँ ;नंगे पांव ,
    साइबेरियन पंछियों की तरह
    तुम्हारे नाम का जल
    क्यूँ बुलाता है मुझे बार बार
    मै चली आती हूँ मीलों मील
    बिना रुके बिना थके
    तुम्हारे नाम का अर्थ
    धारण किये
    तुझमे विलीन होने को आतुर
    मै सदानीरा .
    ... gehre prem me dub kar likhi gai kavita.. bahut sunder vimb.. durlabh...

    ReplyDelete
  32. गजब है! क्या-क्या लिख देती हैं आप भी। नाम के इत्ते जलवे। वाह!

    ReplyDelete
  33. बिना छतरी के
    मै भीगती हूँ ;नंगे पांव ,
    ...इसमें तो बड़ा मजा आता है...

    ________________
    'पाखी की दुनिया' में इस बार माउन्ट हैरियट की सैर

    ReplyDelete
  34. साइबेरियन पंछियो के बिम्ब का बेहद सुन्दर प्रयोग है ।

    ReplyDelete
  35. सुशीला जी क्या कहूँ...हतप्रभ हूँ...रचना की प्रशंशा के लिए शब्द ही नहीं मिल रहे...भाव विभोर हो गया हूँ इसे पढ़ कर...इस अद्भुत काव्य रचना के लिए बधाई स्वीकार करें.
    नीरज

    ReplyDelete
  36. तुम्हारे नाम का अर्थ
    धारण किये
    तुझमे विलीन होने को आतुर
    मै सदानीरा .
    Neeraj ji ne sahi kaha..aapne nishabd kar diya hai!

    ReplyDelete
  37. भीगी-भीगी सी प्यार की मिठास संजोये सुन्दर रचना.....

    ReplyDelete
  38. lovely, touchy,and wonderfull emotions.......

    ReplyDelete
  39. BAHUT hi najuk AUR man ko chu jane wali rachna......nice ...........

    ReplyDelete
  40. sukriya is rachna k liye ............
    aap ka dhanywad

    ReplyDelete
  41. बड़े कोमल अहसासों की कविता
    बधाई !

    ReplyDelete
  42. Aapko shayad HANS me bhi padha hai.Tumhare nam ka jal kavita bahut achhi ban pari hai. Jitni sangitmay hai utni hi asardar bhi.

    ReplyDelete
  43. -------------------------------------
    mere blog par is baar
    तुम कहाँ हो ? ? ?
    jaroor aayein...
    tippani ka intzaar rahega...
    http://i555.blogspot.com/

    ReplyDelete
  44. सदानीरा !
    स्वयं मे आनन्द . रस . लय । प्रशंसनीय ।

    ReplyDelete
  45. यहाँ आकर ठहर गया हूँ
    सादर,

    माणिक
    आकाशवाणी ,स्पिक मैके और अध्यापन से जुड़ाव
    अपनी माटी
    माणिकनामा

    ReplyDelete
  46. इस अच्छी कविता के लिये बधाई इस अच्छी कविता के लिये बधाई इस

    ReplyDelete
  47. आप सभी मित्रों का हार्दिक आभार ।

    ReplyDelete
  48. समय के ठोस अँधेरे को भेदकर
    रौशनी की तरह फैलता है
    और मै कतरा कतरा नहा उठती हूँ ,
    तुम्हारे नाम की बारिश में
    बिना छतरी के
    ------------- पूरी कविता ही अच्छी है और इस हिस्से ने
    तो बड़ी देर तक रोक रखा ! ऐसा लगा जैसे कोई भीगी
    उँगलियों से समय के सिन्दूर को छू रहा हो ! आभार !

    ReplyDelete
  49. Save upto 70% on all major brands of contact lenses Online In INDIA including B&L/J&J/Freshlook/Acuvue & many more. www.SoftTouchLenses.com

    ReplyDelete
  50. नाम सम्मोहित सदानीरा ! आखिर क्या रखा है नाम में ? शायद, स्वयं को देखने का ये उपक्रम हो.. नाम को दर्पण बना कर! हिमांशु पाण्डेय ने कितना सही नाम दिया था मुझे श्याम विहंग :)

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails