Pages

Sunday, February 7, 2010

एक छाँव

मेरे प्रेम की गठरी में
थोड़े शब्द हैं
तो ढेर सारा मौन है
कुछ उदासियाँ हैं
तो अनंत हसीं है
मेरी इस गठरी में
दुबकी है कई अजन्मीं खुशियाँ,
मेरे प्रेम की गठरी में
कच्चे-पक्के रास्ते हैं
तो जंगली पगडंडियाँ भी हैं
मेरे वहाँ कस्तूरी बस्ती है
वन-वन भटकती नहीं
मेरे पास
मृगछौने सा समय करता है किलोल,
मेरे प्रेम की गठरी में
चुटकी भर ठिठुरन है
तो अंजुरी भर धूप है
मेरी इस पोटली में
एक ऐसी छीनी है
जिससे हो सकता है आसमान में सुराख,
मेरे प्रेम की गठरी में
एक छाव है जहां
सुस्ताता है उस पार का बटोही
मेरे यहाँ हुआ करती हैं
तृप्ति की कई-कई नदियाँ
मेरे पास लहरों की पूरी कथा है
मैंने अपनी गठरी में बाँधा है
एक नई धरती एक नया आसमान।
( लखनऊ दूरदर्शन से प्रसारित )

33 comments:

  1. main to aapki fan ho gayi.. :)

    ReplyDelete
  2. वाह आपकी गठरी तो कल्पवृक्ष है। सब कुछ है इसमें। वाह! शानदार!

    ReplyDelete
  3. पूरा मन ही खिल उठ है कविता में... अति सुंदर.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर रचना..वाह!

    ReplyDelete
  5. मैंने अपनी गठरी में बाँधा है
    एक नई धरती एक नया आसमान ..

    वाह बहुत ही लाजवाब ...... प्रेम से लबालब है आपकी गठरी ... कोमल एहसास समेटे नाज़ुक रचना है ......... उमंग जगाती .... सपनों में ले जाती रचना ............

    ReplyDelete
  6. aapkee is gathree se to hum bhi bandhe hue hain...
    laajwaab rachna...bahut sundar...

    ReplyDelete
  7. बिलकुल शेफाली !!!! आपने सही देखा .....मेरी इस गठरी में मेरे, आप सभी दोस्त बंधे हैं .हार्दिक आभार.

    ReplyDelete
  8. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  9. tripti ki nadiyan...behtarine ...shilp
    ek aisi chheni hai jis se ho sakta hai
    aasman me suraakh......wah ...kamaal....
    bahut hi sunder abhivyakti.badhai....
    suno yaar
    hamme bhi ek baar apne gaon le chalo....
    us phyzaan ka hum pe bhi kucch is tarah ka asar ho jaaye

    ReplyDelete
  10. प्रेम की गठरी का सुन्दर मनोहारी चित्रण ...ये गठरी है ही ऐसी...जिसके पास है वो सबसे धनवान है...
    नीरज

    ReplyDelete
  11. तुम्हारी प्रेम की गठरी में ऐसी ऐसी चीज़ें हैं जिनकी हमें तलाश है !एक बार गठरी खोल दो ना प्लीज़

    ReplyDelete
  12. जरुर अंशू ! आपका बहुत स्वागत है ,मेरा गाँव तुम्हारा गाँव भी है .

    ReplyDelete
  13. प्रज्ञा ! उस गठरी में तुम भी तो हो !!!

    ReplyDelete
  14. बहुत बढ़िया रहा...प्रेम अकेला ऐसा विषय है, जो भावनात्मक क्षेत्र में दखल रखने के बावजूद अपनी तरफ दुनिया को झुकाने की शक्ति रखता है...और भावना का विस्तार कविता में हो या कहानी में..इसका विस्तार अनंत है...मुझे पसंद आई कविता..खासकर...प्रेम का अनोखा होने से पहले अति साधारण विवरण कविता में उतर आया है...और इसे और स्पष्टता की ज़रूरत नहीं..

    nishant

    ReplyDelete
  15. बड़ी ही सशक्त और सम्भावनाओ से भरपूर है,यह kvita ! sachmuch prem ki gathari me ab bhi bahut kuchh है jisase duniya anjan है ! badhai !!!

    ReplyDelete
  16. सुदंर कविता। दो पंक्तियों के बीच स्पेस सिंगल होता तो ज्यादा पठनीय रहता।

    ReplyDelete
  17. आपकी गठरी में तो जैसे सबकुछ ही समा गया है...बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  18. aapki prem ki gadri to itni badi hai ki sara jag hi usme sama jaye. bahut accha laga.
    http://sameerpclab2.blogspot.com

    ReplyDelete
  19. मेरे प्रेम की गठरी में ,
    चुटकी भर ठिठुरन है
    तो अंजुरी भर धूप है !
    ........
    जैसे सब कुछ कह दिया हो.
    बहुत ही भावपूर्ण कविता..आप की कविता में पाठक को संग बहा लिए जाने की अद्भुत क्षमता है.
    [ देर से पहुँचने के लिए क्षमा chahti hun ,आप की जो फीड आई है उस में दिया लिंक पृष्ठ उपलब्ध नहीं है बता रहा है]

    ReplyDelete
  20. सुशीला जी आपकी इस गठरी से तो जलन होने लगी है ......!!

    ReplyDelete
  21. इस गठरी का कोई जवाब नहीं, यह सलामत रहे, भार बढता रहे, सहन कर सकने के लिए प्रेम भी बढता रहे। इतने अनंत विस्‍तार की इस शानदार कविता के लिए अनेकानेक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  22. hmmm.. prem shabda itna hi vistrit hota haishayad ki isme sab kuchh samaya hota hai... kaun kab kya aur kaise payega ye alag alag vyakti ki sthiti paristhiti aur vyaktitva par nirbhar karta hai...

    ReplyDelete
  23. आप सभी का हार्दिक आभार .

    ReplyDelete
  24. मैं देर से आया इस जादुई गठरी के करीब .. लेकिन उम्मीद है मेरे हिस्से में भी कुछ न कुछ ज़रूर आयेगा.... ख़ुदा इस गठरी को बदनज़र से बचाए ... आमीन!

    ReplyDelete
  25. aap ne apni gathree me bhandha hai na kawel ek nayee dharti aur ek naya aasman ko parantoo apne annant prashansakoon ko bhi.allah kare zor-e-qalam aur ziyada!

    ReplyDelete
  26. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  27. wah..lazwab....tar ho gaye aapke lafzo ke barish me....

    ReplyDelete
  28. wah sushila ji kya gathari ha aapk sare mausam ..le aai esme ..girish..

    ReplyDelete
  29. इसे देखे बिना निकल लेता तो सच में बहुत कुछ खो देता! थोड़े शब्दों के साथ ढेर सारा मौन लिए कविता की उठान ही कितनी लाजवाब है! और फिर, गठरी क्या खुलती है.. एक तलिस्म बुनती हुई प्रेम की एक अलग ही दुनिया खुलती चली जाती है!! वाह! वाह! एक पूरा घना जंगल अपने नैसर्गिक सौंदर्य के साथ साकार होने लगता है ..वधाई ! ऐसे ही किसी वन में कृष्ण ने जिया होगा प्रेम..सर्वश्रेष्ठ पांचतारा कविता!

    ReplyDelete
  30. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails