Pages

Sunday, November 13, 2011

छोटू

( बाल -दिवस पर विशेष )


कोलवेल दबाते में
हथेली का खुरदुरापन चुभता है
कई कई प्रश्नों के साथ,
छोटू, जो घर घर से उठाता है कूड़ा
टुकुर टुकुर देखता है
घरों से निकलते स्कूल जाते बच्चे
भूकुर भूकुर ढ़ेबरी सा जलता है छोटू,
छूता है अपनी खुरदुरी हथेलियाँ
जो छूना चाहती हैं किताबें
और उनमें छपे अक्षरों की दुनियाँ,
ऐसी दुनियाँ
जहाँ मिल सके बराबरी
जहाँ दया में मिले
सीले बिस्कुटों की नमी न हो
कूड़ा उठाते हुये छोटू
छूना चाहता है
एक नया सूरज...!  

17 comments:

  1. कूड़ा उठाते हुये छोटू
    छूना चाहता है
    एक नया सूरज...! सूरज उसकी मुट्ठी में है , क्या उस मजबूर मुट्ठी को कोई खोल सकेगा या अपने आराम के लिए एक और सूरज निगल लेगा

    ReplyDelete
  2. बाल दिवस की शुभकामनाएँ!

    ---

    कल 15/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. कूड़ा उठाते हुये छोटू
    छूना चाहता है
    एक नया सूरज...!
    Kaash...uskee ye tamanna pooree ho!

    ReplyDelete
  4. ऐसी दुनियाँ
    जहाँ मिल सके बराबरी
    जहाँ दया में मिले
    सीले बिस्कुटों की नमी न हो

    देने वालों की सह्रदयता पर कटाक्ष करती अच्छी पंक्तियाँ

    सच्चाई को कहती अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सार्थक व सटीक अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  7. is chhotu ki khwahish me ek aag hai jiski tpish se dan me di jane wale biskuto ki nmi ek din jroor sookhegi bs bat uski is tpish ko idhan dete rhne ki hai .
    bhut umda khyalat hai .
    aage bhi shiddt se aisi kvitao ka intjaar rhega jo sochne pr mjboor kre .

    ReplyDelete
  8. ऐसी दुनियाँ
    जहाँ मिल सके बराबरी...

    बेहतर...

    ReplyDelete
  9. बाल दिवस पर आपको बहुत सारी शुभकामनाएँ ! कल ही इस कविता को पढ़ लिया था . बहुत मार्मिक कविता है . इसे पढ़कर कुछ दिनों पहले की बात याद आ गई . कॉलोनी की मुख्य सड़क पर कई दिनों से काम चल रहा है , इसलिए मजदूर वहीँ सड़क किनारे खाली स्थानों पर टेंट लगाकर रहते हैं . एक दिन सुबह -सुबह जब हम घूमकर लौट रहे थे .. देखा कि एक बच्चा हाथ में कुदाल पकड़े है और हंस-हंसकर उसे चला रहा है . बच्चे की उम्र को देखते हुए तुरंत प्रतिक्रिया आई .. और वहीँ पास बैठे उसके पिता से कह भी दिया .. ज़रा देख लीजिये .. उसे चोट लग सकती है .. उसका तुरंत जवाब मिला .. आपके बच्चे को खिलौने से लगती है क्या ...

    ReplyDelete
  10. अन्तरस्पर्शी/भावमय रचना....
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  11. देश के ६४ सालों के बाद भी न जाने ऐसे कितने ही छोटू तरसते हैं किताबों को क्या सच में आज़ादी आ गई ...

    ReplyDelete
  12. भावमयी सुंदर रचनात्मक बेहतरीन पोस्ट...
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है ...

    ReplyDelete
  13. भावमयी सुंदर रचनात्मक कटाक्ष करती पंक्तियाँ .....

    ReplyDelete
  14. "कूड़ा उठाते हुये छोटू
    छूना चाहता है
    एक नया सूरज...!"
    बहुत खूब !

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails