Pages

Saturday, December 19, 2009

मेरे हिस्से की मिठास

मेरे मन के समंदर में
ढेर सारा नमक था
बिलकुल खारा
स्वादहीन
उन नोनचट दिनों में
हलक सूख जाता थी
मरुस्थली समय
जिद्द किये बैठा था
नन्हें शिशु सी मचलती थी प्यास
मोथे की जड़ की तरह
दुःख दुबका रहता था भीतर
उन्ही खारे दिनों में
समंदर की सतह पर
मेरे हिस्से की मिठास लिए
छप-छप करते तुम्हारे पांव
चले आये सहसा
और नसों में घुल गया चन्द्रमा .

21 comments:

  1. बहुत सुंदर रचना, बधाई!

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब सुन्दर रचना
    बहुत -२ धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. sushila ji ap bahut khubsurat likhte ho....

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया व सुन्दर रचना है।बधाई।

    ReplyDelete
  5. उन्ही खारे दिनों में
    समंदर की सतह पर
    मेरे हिस्से की मिठास लिए
    छप-छप करते तुम्हारे पांव
    चले आये सहसा
    और नसों में घुल गया चन्द्रमा .....

    बहुत ही लाजवाब रचना ........ गहरे भाव .........

    ReplyDelete
  6. नन्हें शिशु सी मचलती थी प्यास
    मोथे की जड़ की तरह
    दुःख दुबका रहता था भीतर............
    ये प्यास ! ये दुःख ! यही तो सेतु है !
    जिससे सब बचना चाहते हैं ! सुशीला जी !
    हम आपके शुक्रगुजार हैं ,जिस सत्य को
    आपने कविता के माध्यम से कह डाला !

    ReplyDelete
  7. bahut dino baad aap ki kavita aayi..

    behad bhaav poorn...
    bahut sundar ahsaas liye..

    ReplyDelete
  8. मोठे की जड़ सा दुःख !! ऐसा की मिटाए न मिटे और जब इतना खारापन कि नमक ही नमक .....ऐसे में छप छप की ध्वनि के साथ किसी के समुद्र की सतह तक आ जाने की अनुभूति कितनी उल्लासमय है और मेरे हिस्से की मिठास परम संतुष्टि की अभिव्यक्ति है ! चंद्रमा की शीतलता नसों में समां जाए तो जीवन सार्थक है ! तुम्हारी रचना मन में प्राण भरती है ! ऐसी सुंदर अनुभूति और अभिव्यक्ति के लिए तुम्हेंबहुत बधाई !

    ReplyDelete
  9. चन्द्रमा सी शीतलता और मधु सी मिठास लिए आपकी रचना ने मन को बहुत सुख दिया, सदा की भाँति.

    ReplyDelete
  10. aapke shabdon me vo jadoo hai ki koi bhi bandha chala aaee....har baar kee tarh ek aur shaandaar rachna....badhaiii...bahut bahut

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुंदर रचना है।

    pls visit...
    www.dweepanter.blogspot.com

    ReplyDelete
  12. मोथे की जड़ की तरह
    दुःख दुबका रहता था भीतर
    उन्ही खारे दिनों में
    समंदर की सतह पर
    मेरे हिस्से की मिठास लिए
    छप-छप करते तुम्हारे पांव
    चले आये सहसा
    और नसों में घुल गया चन्द्रमा .
    Sundar bhavon se saji aapki kavita bahaut achhi lagi.
    Shubhkamnayen.

    ReplyDelete
  13. खारापन एक आहट से बह गया.
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  14. Nishabd hoon.

    Nav varsh ki dher sari shubkamnayen.

    ReplyDelete
  15. मुझे लिखनी होती अगर यह लाजवाब कविता तो इस तरह लिखता

    मेरे मन के समुद्र में
    पहाड़ों नमक था

    उन नॉनचाट दिनों में
    हलक सूख जाता था

    मरुस्थली समय
    जिदद किये बैठा रहता
    नन्हे शिशु सी मचलती प्यास
    मोथे की जड़ सा दुःख
    दुबका रहता कहीं भीतर

    उन्हीं खारे दिनों में
    समुद्र की सतह पर
    मेरे हिस्से की मिठास लिए
    छप छप करते तुम्हारे पांव
    चले आये सहसा

    नसों में जैसे
    चन्द्रमा घुल गया . . .

    नहीं अपनी श्रेष्ठता सिद्ध करने के लिए नहीं लिखी ये टिपण्णी सिर्फ कविता के प्रति मुझमें एक अजीब किस्म का जनून सा है उसके कारण लिखी गई है... अन्यथा न लें.. आपकी यह रचना सचमुच काबिले तारीफ़ है

    ReplyDelete
  16. नसों में चन्द्रमा घोल दिया-- वाह।
    नया साल मुबारक।
    नये साल में नयी पोस्ट आये भाई!

    ReplyDelete
  17. उन्ही खारे दिनों में
    समंदर की सतह पर
    मेरे हिस्से की मिठास लिए
    छप-छप करते तुम्हारे पांव
    चले आये सहसा
    और नसों में घुल गया चन्द्रमा.
    प्रशंसनीय और वंदनीय.

    ReplyDelete
  18. 'मेरे हिस्‍से की मिठास'कथ्‍य एवं कला दोनों ही नज़रिये से बहुत ही अच्‍छी और मार्मिक कविता है। दिल को छू गयी। पढ़कर लगा जैसे मेरे अंतस् के मौन को ही कवयित्री ने शब्‍दों में पिरो दिया है,जो मैं नहीं कह सका,उसे कवयित्री ने कह दिया है। हार्दिक धन्‍यवाद।

    लक्ष्‍मीकांत त्रिपाठी

    ReplyDelete
  19. आत्मसंतुष्टि से भरी हुई कविता, इसका लिखा जाना ज़रूरी था..

    ReplyDelete
  20. खारापन एक आहट से बह गया.
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails