Pages

Monday, September 14, 2009

तुमने लिखा............

तुमने लिखी
धरती
और वह हरी हो गई
तुमने आकाश लिखा
और वह नीला हो गया
तुमने सूरज लिखा
और वह छुप गया बादलों की ओट
तुमने चाँद लिखा
वह मुस्कराता रहा रात भर
तुमने हवा लिखी
नहा लिया उसने चंदन पराग
तुमने मुझे ही तो लिखा
बार-बार
लगातार

37 comments:

  1. वाह!! बहुत खूब!!

    हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    कृप्या अपने किसी मित्र या परिवार के सदस्य का एक नया हिन्दी चिट्ठा शुरू करवा कर इस दिवस विशेष पर हिन्दी के प्रचार एवं प्रसार का संकल्प लिजिये.

    ReplyDelete
  2. आपका हिन्दी में लिखने का प्रयास आने वाली पीढ़ी के लिए अनुकरणीय उदाहरण है. आपके इस प्रयास के लिए आप साधुवाद के हकदार हैं.

    आपको हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  3. प्रेम की महाभावना को विराट संस्कार देती कविता या यूँ कहें कि प्रेम की विराटता को उजागर करती कविता।

    आप इतना कम क्यों रचती हैं? प्रोफाइल में housewife की जगह गृहिणी लिखिए न। यह अधिक गरिमामय और अर्थगुरु है। हिन्दी तो है ही।

    ReplyDelete
  4. प्रेम को बहुत बड़ा कैनवास दिया है ! प्रेम और
    प्रकृति को एक दूसरे का सुन्दर साहचर्य देकर उन्हें एकाकार कर दिया है तुमने .. बहुत बधाई

    ReplyDelete
  5. waah prem ki sunder anubhuti,awesome.

    ReplyDelete
  6. सच में प्रेम और पृकृति इतने ही
    नजदीक हैं.....मोहब्बत में आदमी
    खुदा जैसा ही बन जाता है और
    अद्भुत सृजना करता है......
    बहुत कमाल की कविता है....
    ........डॉ अमरजीत कौंके

    ReplyDelete
  7. वाह ...!
    और इस का असर यह हुआ की मैं मैं न रही.. tum ho gayee:)

    ReplyDelete
  8. यह गौरव सम्पूर्ण सत्ता पा लेने का !
    तुम से चल कर तुम तक पहुंचने का !
    अद्भुत है यह प्रेम कविता .....असंख्य शुभ कामनाये !

    ReplyDelete
  9. वाह सुशीला जे इतनी सुन्दर अभिव्यक्ति ? कमाल है बधाई

    ReplyDelete
  10. तुमने चाँद लिखा
    वह मुस्कराता रहा रात भर
    तुमने हवा लिखी
    नहा लिया उसने चंदन पराग

    वाह जी वाह...कितने सुन्दर शब्द और कमाल के भाव...बेहद खूबसूरत रचना...
    नीरज

    ReplyDelete
  11. prakriti और प्रेम के gahre sambandh यूँ तो rachnaaon में आते rahte हैं ....... पर आपने jitni khoobsoorti के साथ उसे अपनी रचना में utaara है वो कमाल है .......... लाजवाब लिखा है ........

    ReplyDelete
  12. यह एक उत्कृष्ट कविता है कथ्य मे भी और शिल्प के स्तर पर भी ।

    ReplyDelete
  13. तुमने मुझे ही तो लिखा
    बार-बार
    लगातार

    बड़ा अच्छा लिखा है। पूरी कविता बहुत अच्छी लगी।

    ReplyDelete
  14. अच्छी प्रस्तुति....बहुत बहुत बधाई...
    मैनें अपने सभी ब्लागों जैसे ‘मेरी ग़ज़ल’,‘मेरे गीत’ और ‘रोमांटिक रचनाएं’ को एक ही ब्लाग "मेरी ग़ज़लें,मेरे गीत/प्रसन्नवदन चतुर्वेदी"में पिरो दिया है।
    आप का स्वागत है...

    ReplyDelete
  15. खिल गए गुल या खुले दस्ते हिनाई तेरे
    हर तरफ तू है तो फिर तेरा पता किस से करें ...:)

    rachna bahut sundar hai aapki

    ReplyDelete
  16. तुमने मुझे ही तो लिखा
    बार-बार
    लगातार

    बहुत बहुत अच्छी कविता. एक नज़र इधर भी डाल लें....

    http://chitthacharcha.blogspot.com/2009/09/blog-post_17.html

    ReplyDelete
  17. तुमने मुझे ही तो लिखा
    बार-बार
    लगातार
    बहुत ही खूबसूरत कविता है ....

    ReplyDelete
  18. कमाल है !! बहुत खूब !!!

    ReplyDelete
  19. बतौर महबूब 'मैंने'हमेशा कहा - तुम हर जगह हो, हर ओर हो और 'मेरी' दीवानगी की हद है कि हर शय में 'मुझे' तुम नजर आए। लेकिन इस कविता में 'मैंने' 'तु्म्हारी' दीवानगी को पहचाना...माना। मोहब्बत ने एक और मंजिल छू ली। बहुत खूबसूरत।

    ReplyDelete
  20. kavita aapke vicharon ki tarah hi sundar hai.
    ----------------
    aapka jo sawaal tha usaka jawab hai HAAN. ham hi wo kumarendra hain stri vimarsh wale lekh ke......

    ReplyDelete
  21. बहुत सुंदर लिखा है आपने. पढ़ कर अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  22. कविता यहाँ तक खींच लायी मुझे...चिट्ठा-चर्चा से!

    ReplyDelete
  23. प्रेम के हजारों रंग इसी तरह आपकी कविताओं में आते रहें, बहुत ही सुंदर कविता है यह। क्‍या कहूं, बस दिल से बधाइयां ले लीजिए।

    ReplyDelete
  24. shukria. apki is rachna ka bhi koi jawab nahin.
    jo aapne likha laajawab likha.

    ReplyDelete
  25. बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति एकदम सरल शब्दों में---अच्छी लगी आपकी कविता।
    पूनम

    ReplyDelete
  26. सरल भाषा का प्रयोग किया और सरलता से सब कुछ कह दिया आपकी कविता ने
    आप भी इतने ही सरल होंगे उम्मीद है
    अच्छा लिखा
    तुमने मुझे ही तो लिखा
    बार-बार
    लगातार
    अच्छा लिखा .......मेरे ब्लॉग पर भी एक बार आयिए
    कोई सुझाव हो तो जरूर देना , मैं इंतजार करूंगा
    आपका पाठक ......विंकल ...

    ReplyDelete
  27. बेहद स्वच्छ, सरल अभिव्यक्ति जो कविता बन कर चमत्कृत कर देती है.........अब तक की पढी सबसे कमनीय कविता........

    ReplyDelete
  28. सुशीला जी,

    कोमला भावों की अप्रतिम अभिव्यक्ती मन को छू गई।

    बहुत ही अच्छी रचना पढ़अने को मिली नारी को संपूर्ण अभिव्यक्त करती हुई।

    सादर,


    मुकेश कुमार तिवारी

    ReplyDelete
  29. प्रेम की बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति. मन के भीतर तक उतरता प्रेम. एहसास देता हुआ अपने होने का. बधाई.

    ReplyDelete
  30. वाह....दृष्टि पूर्णता और व्यापक दृष्टि के इतने बड़े आयामों को एक छोटी सी रचना में समेटकर एक अद्भुत कार्य निभाया गया है.....हालांकि दृष्टि के नज़रिए होते हैं...मगर इस रचना को पढ़ते पढ़ते आप संकीर्णता से बचते बचते आते हैं....बेहतरीन रचना....

    Nishant kaushik

    ReplyDelete
  31. bahut hi achchi poem hai,prem main aadmi ko har cheez main apna premi nazar aata hai.ishq haqeequi ki baat karein to kahen ki har cheez mein khuda ka jalwa nazar aata hai.

    ReplyDelete
  32. aapki kavitaye komal anubhootiyon ki sandar parinati hai. shubhkamnaye. aapki bhavanao ko maine kuchh aage badhaya hai. pshayad pasand aa jaye. dekhe... girish pankaj-94252 12720
    -------------------------------------------
    likh sakoo to zaingi me pyar likhna chahati hoo
    bas yahi sansaar ka mai saar likhna cahati hoo
    rok paye rok le ye nafaraton ki aandhiyaan
    pyar ke hi shabd mai har baar likhna chahti hooo

    ReplyDelete
  33. तुमने मुझे ही तो लिखा
    बार-बार
    लगातार
    bahut sundar abhivakti hai.

    ReplyDelete
  34. तुमने लिखी
    कविता
    वोह बिखर गयी
    धरती आकाश में मोती के दानो की तरह
    उस नटखट चाँद को चिढाती रही
    फिर खेलने लगी उसी के साथ
    बादलों के पीछे

    ReplyDelete
  35. नहा लिया उसने चंदन पराग
    तुमने मुझे ही तो लिखा
    बार-बार
    लगातार..

    phir se ek khoobsoorat ant ke saath likhi gayi ek sunder kavita........

    ReplyDelete
  36. अरे ऐ सुसीला! का लिखा है री!

    ReplyDelete
  37. प्रेम को बहुत बड़ा कैनवास दिया है ! प्रेम और
    प्रकृति को एक दूसरे का सुन्दर साहचर्य देकर उन्हें एकाकार कर दिया है तुमने .. बहुत बधाई

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails